ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध – Online shiksha ka mahatva in hindi ?

ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध. Online shiksha ka mahatva in hindi? जब से इंटरनेट का स्पीड अच्छा हुआ हैं जबसे 4जी इंटरनेट का आगमन हुआ हैं तब से ऑनलाइन शिक्षा का प्रचार प्रसार बहुत ही ज्यादा आगे बढ़ चुका हैं कोरोना काल में तो शिक्षा पूरी तरह से ऑनलाइन शिक्षा पर ही आश्रित हो गया था.

क्योंकि शिक्षा प्राप्त करने का दूसरा कोई ऑप्शन लोगों के पास नहीं था इसी विषय पर अक्सर छात्रों को निबंध फिर अपना विचार प्रकट करने का कभी ना कभी सवाल उनके सामने जरूर आता होगा.

तो आइए इस लेख में ऑनलाइन शिक्षा के चुनौतियों से लेकर के इसके दूरदर्शी परिणाम तथा इसका लाभ से लेकर के नुकसान तक हर एक चीज के बारे में Online Shiksha का महत्‍व के बारे में इस लेख में आइए विस्तार से जानते हैं.

Online Shiksha Ka Mahatva in hindi

ऑनलाइन शिक्षा के बारे में ऑनलाइन शिक्षा का महत्‍व के बारे में निबंध लिखना ऐसे लिखना पैराग्राफ लिखना यह एक छात्र का अपना उसका ऑनलाइन शिक्षा के प्रति रुचि रुझान मानसिकता को दर्शाने के लिए अक्सर स्कूल या किसी भी एग्जाम में इस तरह का सवाल पूछा जाता हैं.

जिससे पता चल सके कि किसी छात्र का ऑनलाइन एजुकेशन से संबंधित उसका क्या विचार हैं और एक छात्र का ऑनलाइन शिक्षा के प्रति किस तरह का नजरिया हैं. इसको जानने के लिए समझने के लिए छात्र को अपना विचार ऑनलाइन एजुकेशन के बारे में लिखना होता हैं.

ऑनलाइन एजुकेशन क्या हैं

ऑनलाइन एजुकेशन एक प्रकार का शिक्षा जानकारी नॉलेज प्राप्त करने का ऐसा तरीका हैं जिससे घर बैठकर के किसी भी तरह का शिक्षा जानकारी को प्राप्त किया जा सकता हैं इस शिक्षा को ऑनलाइन एजुकेशन के नाम से जाना जाता हैं.

आज के इस इंटरनेट टेक्नोलॉजी की दुनिया में लगभग हर घर में एक स्मार्टफोन हैं और आज यूट्यूब एक ऐसा प्लेटफॉर्म बन गया हैं जिस पर किसी भी तरह की जानकारी को सर्च किया जाता हैं तो उस पर वीडियो मिल जाता हैं जिसके माध्यम से लोग वीडियो देख कर के अपना ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं तथा दूसरा सबसे बड़ा प्लेटफार्म गूगल हैं.

जिस पर लोग जाकर के किसी भी टॉपिक को सर्च करते हैं और वहां से भी घर बैठकर अपना पढ़ाई करते हैं एग्जाम का तैयारी करते हैं या किसी तरह का शिक्षा या जानकारी को प्राप्त करते हैं इसी पढ़ाई के तरीकों को ऑनलाइन एजुकेशन के नाम से जाना जाता हैं.

Online Shiksha Ka Mahatva in hindi2

ऑनलाइन शिक्षा में रुचि

ऑनलाइन शिक्षा दुनिया का कोई भी ऐसा छात्र या कोई बच्चा नहीं होगा जिसको ऑनलाइन पढ़ाई से रुचि न हो Online Shiksha का महत्‍व पता न को क्योंकि इसमें पढ़ाई के साथ-साथ मनोरंजन तथा स्वयं का आजादी भी छात्र को मिल जाता हैं जिससे कोई भी छात्र ऑनलाइन पढ़ाई करना पसंद करता हैं दुनिया में बहुत कम ऐसे छात्र होंगे जो ऑनलाइन पढ़ाई को पसंद नहीं करते होंगे.

Online Shiksha का महत्‍व नही समझते होंगे क्योंकि कुछ ऐसे बच्चे होते हैं जिनको ऑफलाइन मोड में ही पढ़ना अच्छा लगता हैं लेकिन जहां तक अधिकतर बच्चों की बात की जाए तो अधिकतर जो छात्र हैं बच्चे हैं वह ऑनलाइन पढ़ाई करना ही पसंद करते हैं.

ऑनलाइन पढ़ाई में बच्चे घर से बैठ करके पढ़ाई करते हैं उनको कहीं जाने की जरूरत नहीं पड़ता हैं जिससे वह अपने आप को सहज महसूस करते हैं ऑनलाइन पढ़ाई में वह अपने घर पर अकेले बैठ कर के पढ़ाई करते हैं जिसके चलते उनके अंदर यदि किसी तरह के झिझक हैं वह बच्चों के साथ पढ़ने में यदि अच्छा महसूस नहीं करते हैं तो वैसे बच्चे को घर से पढ़ना ज्यादा अच्छा लगता हैं.

ऑनलाइन पढ़ाई के लिए जरूरी संसाधन

पढ़ाई करने के लिए कुछ जरूरी चीजों का होना बहुत ही जरूरी हैं तभी घर बैठकर ऑनलाइन पढ़ाई किया जा सकता हैं जबकि अभी भी भारत में बहुत से ऐसे लोग हैं बहुत से ऐसे छात्र हैं बच्चे हैं जिनके पास इस तरह की सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं लेकिन सबसे पहले ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए जो जरूरी चीजें हैं उसको जानते हैं.

  • एक अच्छाई स्मार्टफोन
  • अच्छा इंटरनेट कनेक्शन
  • कुछ हायर एजुकेशन छात्रों के लिए लैपटॉप या कंप्यूटर

ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए जब से लॉकडाउन लगा तब से मोबाइल का भी बहुत ही ज्यादा लोग खरीदारी किए क्योंकि घर में बच्चों को पढ़ने के लिए एक स्मार्टफोन की आवश्यकता अचानक आ पड़ी जिससे अधिकतर लोग स्मार्टफोन खरीदे इंटरनेट की व्यवस्था किए और घर पर पढ़ाई को सुचारू रूप से जारी रखे.

लेकिन भारत में अभी भी कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां पर अच्छा इंटरनेट का स्पीड नहीं मिलता हैं जिसके कारण वैसे बच्चों वैसे छात्रों के लिए ऑनलाइन पढ़ाई करना बहुत ही मुश्किल हैं और वैसे छात्रों को ऑनलाइन पढ़ाई करने में बहुत ही समस्या झेलना पड़ता हैं.

जिसके कारण वो अच्छे से पढ़ाई नहीं कर पाते हैं हां अच्छे जगह पर या शहर में जो छात्र रहते हैं जो बच्चे रहते हैं उनके लिए ऑनलाइन पढ़ाई करना तो एक अच्छा विकल्प हैं.

लेकिन जो गांव देहात में जहां पर अभी भी बिजली की समस्या हैं इंटरनेट कनेक्शन इंटरनेट स्पीड की समस्या हैं वैसे जगहों पर ऑनलाइन पढ़ाई करना बच्चों के लिए छात्रों के लिए बहुत ही परेशानी खड़ा हो जाता हैं.

ऑनलाइन शिक्षा वर्सेस ऑफलाइन शिक्षा

ऑफलाइन एजुकेशन के कारण आज माता-पिता को भी समय का बचत हो जाता हैं क्योंकि बहुत ऐसे छात्र जो छोटे हैं उनको स्कूल लेकर के जाना फिर स्कूल से लेकर के आना लंच तैयार करना समय से स्कूल छोड़ना यह सभी जिम्‍मेदारियां गार्जियन को निभाना पड़ता हैं.

लेकिन ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त करने से इन सभी तरह के जो काम होते हैं उसको करने की आवश्यकता नहीं पड़ता हैं क्योंकि घर पर बच्चे आसानी से अपने मोबाइल स्मार्टफोन से पढ़ाई कर लेते हैं.

आजकल तो बच्चों को ऑनलाइन बहुत तरह के क्लासेस कराए जा रहे हैं जिसमें एडमिशन करा देते हैं और ऑनलाइन क्लासेज बच्चे अपने घर से कर रहे हैं जिसके लिए उनको कम पैसा देना पड़ता हैं जबकि स्कूल में जो भी बच्चे को पढ़ते हैं तो वहां पर उनको ज्यादा पैसा देना पड़ता हैं वैसे जो लोग सरकारी विद्यालय में अपने बच्चों को पढ़ाते हैं.

उनके लिए तो ऑनलाइन क्लासेस एडमिशन कराना ज्यादा मुश्किल काम हैं क्योंकि सरकारी स्कूल में बच्चों को पढ़ाने के लिए ज्यादा पैसा खर्च करने की आवश्यकता नहीं पड़ता हैं इसलिए उन लोगों के लिए ऑनलाइन क्लासेस करा पाना थोड़ा मुश्किल काम होता हैं.

ऑफलाइन एजुकेशन

जहां तक ऑफलाइन एजुकेशन की बात की जाए तो चाहे वह गरीब का बच्चा हो या अमीर का बच्चा हो दोनों लोगों के लिए ऑफलाइन एजुकेशन बेहतर हैं क्योंकि चाहे गरीब का भी बच्चा हो वह आसानी से किसी भी सरकारी स्कूल में भी जाकर के पढ़ाई कर लेता हैं.

और जो अमीर लोग हैं जिनके बच्चे प्राइवेट यानी किसी बड़े स्कूल में पढ़ते हैं तो वह भी आसानी से जा करके पढ़ाई कर पाते हैं लेकिन जब सारे स्कूल संस्थान बंद हो जाते हैं तब यही पर एक गरीब और अमीर के बच्चों में पढ़ाई में अंतर आ जाता हैं.

क्योंकि अमीर जो ज्यादा पैसा वाले लोग हैं वह तो अपने बच्चे को ऑनलाइन क्लासेस ऑनलाइन अलग-अलग तरह के जो पढ़ाई का संसाधन होता हैं उसको तो मुहैंया करा देते हैं लेकिन जो गरीब का बच्चा होता हैं जो गांव में रहता हैं देहात में रहता हैं उनके बच्चों के लिए परेशानी खड़ा हो जाता हैं उनकी शिक्षा चौपट हो जाती हैं.

क्योंकि उनके पास ऑनलाइन क्लासेज के लिए मोबाइल खरीद पाना इंटरनेट रिचार्ज करा पाना बिजली की समस्या पैसा की समस्या जिसके कारण इन सभी तरह के जो संसाधन ऑनलाइन क्लासेज के लिए होता हैं उनके पास नहीं होता हैं जिसके कारण उनके पढ़ाई में बाधा उत्पन्न हो जाता हैं.

कुल मिलाकर यदि बात किया जाए तो गरीब और अमीर दोनों लोगों के शिक्षा प्राप्त करने की सबसे जो बेहतरीन एवं व्यवस्थित तरीका हैं वह हैं ऑफलाइन शिक्षा प्राप्त करना.

ऑनलाइन शिक्षा का भविष्य

जैसा कि ऊपर ऑफलाइन और ऑनलाइन एजुकेशन के बारे में बात किए हैं चाहे आप गरीब हो या अमीर हो आपको अपने बच्चे के लिए ऑनलाइन क्लासेस कराने ही पड़ेंगे क्योंकि भविष्य में इसका और भी ज्यादा उपयोग किया जाएगा क्योंकि अब ऐसा समय आ गया हैं कि अधिकतर लोग अपने घर में ही रह करके पढ़ना चाहते हैं.

क्योंकि हम लोग देख पा रहे हैं कि कोरोना के कारण 2 साल से बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं लोग घर से नहीं निकल पा रहे हैं घर से लोग ऑफिस का भी काम कर रहे हैं तो भविष्य अब आ रहा हैं कि आप वर्क फ्रॉम एजुकेशन वर्क फ्रॉम होम वर्क फ्रॉम एवरी थिंग का अब और ज्यादा चलन बढ़ने वाला हैं.

इसलिए आप चाहे गरीब हो या अमीर हो आप अपने बच्चों को यदि पढ़ाना चाहते हैं तो उसके लिए आप स्मार्टफोन इंटरनेट लैपटॉप बिजली आदि की व्यवस्था करना ही पड़ेगा तभी आपके बच्चों का भविष्य बेहतर हो सकता हैं.

ऑनलाइन शिक्षा के लिए कुछ जरूरी बातें

माता पिता के प्यार के कारण बच्चे मोबाइल स्मार्टफोन का गलत इस्तेमाल करने लग जा रहे हैं जिसके कारण उनका पूरा जीवन अस्त-व्यस्त हो जा रहा हैं.क्योंकि इंटरनेट में जितना ज्यादा अच्छी चीजें पढ़ने को मिलती हैं.

उतना ही ज्यादा गलत चीजों के बारे में भी जानकारी आसानी से मिल जाता हैं जो गार्जियन अपने बच्चों को यह समझ कर उन पर ध्यान नहीं देते हैं कि बच्चा हमारा मोबाइल लेकर के या लैपटॉप लेकर के दिन भर पढ़ाई ही कर रहा हैं उनको यह भी जानने की जरूरत हैं कि आज बच्चे ने दिन भर जो पढ़ाई किया हैं वह क्या पढा तथा वह अपने स्मार्टफोन या अपने लैपटॉप में किन चीजों का इस्तेमाल कर रहा हैं.

पढ़ाई के अलावा और जितने भी आज सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हैं कहीं दिनभर अपना समय उसी पर तो नहीं लगा रहा हैं इन सभी चीजों पर ध्यान देने की बहुत ही सख्त जरूरत हैं.

ऑनलाइन पढ़ाई के फायदे

ऑनलाइन पढ़ाई करने के बहुत सारे फायदे हैं क्योंकि ऑनलाइन पढ़ाई यदि आप अपने स्कूल में नहीं जाकर घर पर करते हैं तो समय जो आने जाने में लगता हैं उसका बचत हो जाता हैं और आप अपने घर पर बैठकर स्कूल में जो भी ऑनलाइन पढ़ाया जाता हैं उसको घर से ही आसानी से पढ़ लेते हैं.

या फिर यदि आप अपने स्कूल के सिलेबस के अलावा भी ऑनलाइन कुछ पढ़ाई करना चाहते हैं ऑनलाइन शिक्षा का महत्‍व जानते हैं तो उसके लिए फ्री प्लेटफार्म यूट्यूब हैं गूगल हैं जिसके माध्यम से भी ऑनलाइन घर बैठ कर के आप बहुत कुछ सीख सकते हैं पढ़ सकते हैं यह ऑनलाइन पढ़ने का एक बहुत ही दुनिया का सबसे अच्छा प्लेटफॉर्म बन गया हैं जिसके माध्यम से लोग पढ़ कर के अच्छा पैसा नौकरी भी प्राप्त कर रहे हैं.

  • ऑनलाइन पढ़ाई करने से समय का बचत होता हैं.
  • ऑनलाइन पढ़ाई आप अपने समय के हिसाब से भी कर सकते हैं.
  • पढ़ने के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं होता हैं.
  • जिसके चलते हैं आने जाने में जो खर्च होता हैं वह बच जाता हैं.
  • घर से पढ़ने के कारण स्कूल में जो व्यवस्था करनी पड़ती हैं जैसे की बेंच क्लासरूम या और भी जरूरी जो आवश्यकताएं होती हैं उसको नहीं करना पड़ता हैं.
  • ऑनलाइन पढ़ाई के चलते जो विकलांग छात्र होते हैं या जो कहीं आने जाने में असमर्थ होते हैं वैसे लोग भी घर से पढ़ाई आसानी से कर पाते हैं.
  • आने जाने में जो समय बचत होता हैं उस समय का इस्तेमाल ऑनलाइन पढ़ाई में लगा कर के बच्चे और आगे बढ़ सकते हैं.

ऑनलाइन शिक्षा से नुकसान

ऑनलाइन पढ़ाई के जितने फायदे हैं उसके तुलना में इसका कुछ नुकसान भी हैं क्योंकि बहुत ऐसे बच्चे हैं जो ऑनलाइन पढ़ाई नहीं करते हैं उनको जब स्कूल से फ्री हो जाते हैं तब घर पर ऑनलाइन पढ़ाई करने में उनका मन नहीं लगता हैं वह पढ़ नहीं पाते हैं.

जिसके कारण उनका पढ़ाई से दिनोंदिन दूरियां और बढ़ते हैं चला जाता हैं कुछ ऐसे बच्चे होते हैं जिनको मजबूरी में भी स्कूल जाते हैं तो वहां से कुछ न कुछ शिक्षा ग्रहण कर पाते हैं.

लेकिन जब स्कूल कॉलेज संस्थान सब कुछ कोरोना काल में बंद हो गया और अभी भी कुछ ऐसे संस्थान हैं जिनका पढ़ाई ऑनलाइन ही हो रहा हैं तो कुछ वैसे छात्र जो किसी भी मजबूरी में स्कूल में जाकर के पढ़ते थे उन छात्रों के लिए अब पढ़ाई करना अच्‍छा नहीं लगता हैं.

  • ऑनलाइन पढ़ाई करने से आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता हैं.
  • ऑनलाइन पढ़ाई करने वाले छात्रों का पढ़ाई के बारे में अच्छे से उनका एनालिसिस नहीं हो पाता हैं.
  • समय से पढ़ाई नहीं करना अभी एक ऑनलाइन क्लास का कारण हैं.
  • ऑनलाइन पढ़ाई को टाइमपास के रूप में लेना.
  • किसी शिक्षक टीचर या लेक्चरर का छात्र के प्रति डायरेक्ट इंटरेक्शन नहीं हो पाना.
  • बच्चों का डाउट क्लियर नहीं हो पाना.
  • बच्चों को एकांत में अकेले पढ़ना.
  • एक साथ ग्रुप डिस्कशन नहीं कर पाना.
  • एक ही जगह घर पर बैठे-बैठे पढ़ने से बोर हो जाना.
  • शारीरिक परिश्रम नहीं करना.
  • गरीब बच्चों के लिए जरूरी चीजें नहीं उपलब्ध हो पाना.
  • बच्चों को गलत आदतें लग जाना.
  • बच्चों को ऑनलाइन गेम के प्रति ज्यादा आदि हो जाना.

 

Online shiksha ka mahatva in hindi के बारे ये जानकारी कैसा लगा कृपया कमेंट करके जरूर बतायें।