ECG Test क्या होता है? ये एक टेस्ट बता देगा की कितना हेल्दी है आपका दिल

जैसा कि आप जानते हैं कि आज के समय में जिस प्रकार हम लोग गलत दैनिक दिनचर्या का पालन कर रहे हैं वैसे मैं हमें कई प्रकार के गंभीर बीमारी होने का खतरा बहुत ज्यादा है अगर आपको कोई भी एक बीमारी हो जाती है तो उसके लिए आपको सबसे पहले डॉक्टर के पास जाना होता है।

ecg test in hindi

और डॉक्टर बीमारी से संबंधित आपको टेस्ट करने के लिए कहेगा टेस्ट होने के बाद भी मालूम चल पाएगा कि आपको कौन सी बीमारी हुई है ऐसे में आप लोगों ने अनेकों प्रकार के टेस्ट का नाम सुना होगा उनमें से एक ECG टेस्ट भी होता है।

क्या आप उसके बारे में जानते हैं अगर आप नहीं जानते हैं कि ईसीजी टेस्ट क्या होता है और इसके द्वारा कौन सी बीमारी की जाँच किया जाता है ईसीजी टेस्ट करवाने में कितने पैसे खर्च होते हैं इन सभी सवालों के जवाब जानने के लिए आप इस आर्टिकल ईसीजी टेस्ट क्या है? (ECG Test in Hindi) को अंत तक जरूर पढ़े।

 

ECG टेस्ट क्या है? (ECG Test in Hindi)

ECG टेस्ट तभी किया जाता है जब किसी व्यक्ति को Heart से संबंधित कोई गंभीर लक्षण दिखाई दे और वह जब डॉक्टर के पास जाता है तो डॉक्टर सबसे पहले उसे ईसीजी टेस्ट करने की सलाह दी जाती है ताकि इस बात को मालूम किया जा सके कि आपका हृदय सामान्य तौर पर धड़क रहा है कि नहीं।

जैसा कि आप जानते हैं कि एक मनुष्य का हार्ट सामान्य तौर पर 1 मिनट में 60 से लेकर 100 बार धड़कता है ऐसे में अगर किसी मनुष्य का हृदय ज्यादा या कम धड़कता है तो ऐसी स्थिति में उसे ईसीजी टेस्ट करवाना पड़ता है ताकि इस बात को मालूम किया जा सके कि कहीं उसे हृदय संबंधित कोई गंभीर बीमारी तो नहीं हो गई है।

 

ECG Full Form in Hindi

ECG का Full Form “Electrocardiogram” होता है इसे Heart से सम्बंधित बीमारियों का पता लगाने में किया जाता है।

ECG Test कब करवाया जाता है?

  • सांस लेने में तकलीफ होने पर
  • चेस्ट में में दर्द होने पर
  • दम फूलना
  • कमजोरी महसूस करना
  • हार्ट से Abnormal Sound सुनाई पड़ना
  • Heart Attack आने पर

ECG Test करवाने से क्या पता चलता है?

  • इस टेस्ट से इस बात की जानकारी ली जाती है कि आपका हृदय ठीक से काम कर रहा है या नहीं।
  • दिल की धड़कने की गति समान है कि नहीं।
  • हृदय का साइज ठीक है कि नहीं।
  • ह्रदय का कौन सा भाग डैमेज हुआ है।
  • अगर आप को हार्ट अटैक आया है तो उसका कारण इसके माध्यम से पता चल जाएगा।
  • पहले भी अगर आप को हार्ट अटैक आया है तो उसका भी एक रिपोर्ट इसके माध्यम से आप जान पाएंगे।

ECG टेस्ट करवाने से पहले क्या करें?

  • आप जब भी कभी ECG टेस्ट करवायें तो आप उस समय पानी पीकर टेस्ट ना करवाए।
  • बॉडी के किसी भी भाग में किसी प्रकार का क्रीम या लोशन ना लगाएं।
  • ईसीजी टेस्ट करवाएंगे तो उसके पहले आप कभी भी व्यायाम या कसरत ना करें।
  • आपका कभी भी Fit कपड़े ना पहने।
  • इसके अलावा जब आप ईसीजी करवाने जाएंगे तो आप अपने साथ कोई भी Metal की चीज ना ले जाए।
  • आप किसी बीमारी के लिए पहले से कोई दवा का सेवन कर रहे हैं तो इसके बारे में आप डॉक्टर को जरूर जानकारी दें।

ECG Test कैसे किया जाता है?

ईसीजी टेस्ट करने की मशीन होती है उस के माध्यम से ही किसी भी मनुष्य का ईसीजी टेस्ट किया जाता है टेस्ट के समय सबसे पहले किसी मनुष्य को अपने कपड़े उतार कर बेड पर लेटना होता है उसके बाद व्यक्ति के सीने बाजू और पैरों पर छोटे छोटे मशीन लगाए जाते हैं।

जिसे इलेक्ट्रोडस (Electrodes) कहा जाता है और यह तार के माध्यम से ईसीजी मशीन के द्वारा जुड़े हुए होते हैं इनके माध्यम से मनुष्य के ह्रदय की गतिविधि को Graph के माध्यम से देखा जाता है इस प्रकार आपका ECG टेस्ट पूरा होता है।

ईसीजी टेस्ट हृदय रोग विशेषज्ञ (cardiologist) या अन्य कोई फिजिशियन के द्वारा किया जाता है अगर आपके डॉक्टर को लगता है की आपके हार्ट में कोई प्रॉब्लम है तो वो आपको ईसीजी (ECG) टेस्ट करवाने के लिए कह सकते है।

 

ECG Test का रिजल्ट कितने प्रकार का होता है?

ईसीजी का रिजल्ट दो प्रकार का होता है जिसका विवरण हम आपको नीचे बिंदु अनुसार देंगे जो इस प्रकार है।

Normal ECG Test Report

नॉरमल ईसीजी रिपोर्ट का मतलब ये होता है की ईसीजी टेस्ट में यदि डॉक्टर को नॉर्मल पैटर्न मिलता है तो इसका मतलब ये है की मरीज के हार्ट की धड़कन और लय दोनों नॉर्मल रेंज में है और आपके दिल के इलेक्ट्रिकल सिस्टम में किसी भी तरह की कोई प्रॉब्लम नहीं पायी गई है और आपको हृदय संबंधित कोई गंभीर बीमारी नहीं है।

Abnormal ECG Test Report

अगर आपने ईसीजी रिपोर्ट करवाया है और उसका रिपोर्ट Abnormal दिखा रहा है मतलब ये की आपके दिल की धड़कन असामान्य है और लगातार घट-बढ़ रही हो। तो इसका मतलब साफ है कि आपको हृदय से संबंधित कोई गंभीर बीमारी है इसके बाद डॉक्टर के द्वारा चिकित्सा प्रक्रिया शुरू किया जाएगा।

ECG Test करवाने में पैसे कितने खर्च होंगे?

अगर आप ईसीजी टेस्ट करवाना चाहते हैं और उसमें पैसे कितने खर्च होंगे तो मैं आपको बता दूं कि यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस प्रकार के Lab के द्वारा ईसीजी टेस्ट करवा रहे हैं उसके अनुसार ही आपको पैसे यहां पर देने पड़ेंगे सामान्य तौर पर अगर आप ईसीजी करवाते हैं तो आज के समय में आपको ₹250 से लेकर ₹600 रूपये तक का देना पड़ेगा।

Disclaimer – इस लेख में बताये गए जानकारी केवल और केवल ज्ञान के उद्देश्य से बताये गए है इसे बिलकुल भी मेडिकल सलाह के रूप में इस्तेमाल ना करे, मेडिकल ट्रीटमेंट से पहले डॉक्टरी सलाह जरूर ले। 

FAQ’s –

Q. ECG की जांच से क्या पता चलता है?

Ans – ईसीजी (इलेक्ट्रोकार्डियोग्रामका) का टेस्ट डॉक्टरों के द्वारा ये जांचने के लिए किया जाता है की रोगी की हृदय गति और लय की कही असामान्य तो नहीं है। इस टेस्ट से डॉक्टरों को हार्ट अटैक, दय रोग, किसी भी तरह का असामान्य हृदय ताल, या बढ़े हुए दिल का पता लगाने में मदद करता है

Q. ईसीजी कब करवाना चाहिए?

A, ns – जब आपकी दिल की धड़कन असामान्य हो जाए और लगातार तेजी से घटती-बढ़ती हो, जब सीने और छाती मेंदर्द महसूस हो, सांस लेने में तकलीफ हो, चक्कर आना, जब आपको अचानक से घबराहट हो और पसीना निकलने लगे, तो आपको ईसीजी का टेस्ट करा लेनी चाहिए। ताकि आपको पता चल सके की कहि ये दिल की बीमारी के लक्षण तो नहीं है।

उम्मीद करता हूँ आपको ये आर्टिकल ईसीजी टेस्ट क्या है? (ECG Test in Hindi) पसंद आया होगा इस जानकारी को अपने दोस्तों, सग्गे सम्बधियाँ के साथ भी शेयर जरूर करें किसी भी प्रकार का सवाल, सुझाव आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है धन्यवाद!