सुंदर पिचाई : सफलता के पीछे की कहानी/Sundar Pichai: The Story Behind Success

सुंदर पिचाई : सफलता के पीछे संघर्ष की कहानी

Sundar Pichai: The Story Behind Success

पिचई सुंदरराजन , जिसे सुंदर पिचाई भी कहा जाता है, एक भारतीय अमेरिकी व्यवसायिक कार्यकारी है।

पिचई Google इंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) हैं। पूर्व में Google के उत्पाद प्रमुख, पिचई की वर्तमान भूमिका 10 अगस्त 2015 को घोषित की गई, पुनर्गठन प्रक्रिया के तहत, जो कि Google की मूल कंपनी में वर्णमाला इंक बना, और उन्होंने 2 अक्टूबर 2015 को पद ग्रहण किया

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

पिचई का जन्म मदुरै, तमिलनाडु, भारत में हुआ,  लक्ष्मी और रागुनाथा पिचाई में। सुंदर, चेन्नई के अशोक नगर में, 46 वीं स्ट्रीट, 7 वीं एवेन्यू पर दो कमरे के अपार्टमेंट में हुआ।

सुंदर ने चेन्नई की अशोक नगर के माध्यमिक शिक्षा विद्यालय के सेंट्रल बोर्ड के जवाहर विद्यालय में स्कूली शिक्षा पूरी की और भारतीय बारावी की कक्षा में 12 वीं कक्षा भारतीय विज्ञान संस्थान मद्रास में वाना वाणी स्कूल से पूरी की। पिचई ने मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर से अपनी डिग्री प्राप्त की। वह एक एम.एस. स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से भौतिक विज्ञान और इंजीनियरिंग और यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिल्वेनिया के व्हार्टन स्कूल से एमबीए,जहां उन्हें क्रमशः सिबेल विद्वान  और एक पाल्मर स्कॉलर नामित किया गया था।

व्यवसाय

पिचिई 2015 में बार्सिलोना, स्पेन में मोबाइल वर्ल्ड कॉंग्रेस में बोल रहे थे
पिचई ने एप्लाइड मैटेरियल्स में इंजीनियरिंग और प्रोडक्ट मैनेजमेंट में और मैकिन्से एंड कंपनी में प्रबंधन परामर्श में काम किया

पिचई 2004 में Google में शामिल हो गए, जहां उन्होंने गूगल क्रोम और क्रोम ओएस सहित Google के क्लाइंट सॉफ़्टवेयर उत्पादों के एक सूट के लिए उत्पाद प्रबंधन और नवाचार के प्रयासों का नेतृत्व किया, साथ ही साथ Google ड्राइव के लिए ज़िम्मेदार भी किया। उन्होंने जीमेल और Google मैप्स जैसे विभिन्न अनुप्रयोगों के विकास की निगरानी की। 1 9 नवंबर 200 9 को, पिचई ने क्रोम ओएस के प्रदर्शन का प्रदर्शन किया और 2011 में परीक्षण और परीक्षण के लिए Chromebook जारी किया गया, और 2012 में जनता को जारी किया गया।  20 मई 2010 को, उन्होंने गूगल द्वारा नए वीडियो कोडेक वीपी 8 की खुली सोर्सिंग की घोषणा की और नए वीडियो प्रारूप, वेबएम की शुरुआत की।

13 मार्च 2013 को, पिचई ने एंड्रॉइड को उन Google उत्पादों की सूची में जोड़ा जो उन्होंने देखे। एंड्रॉइड को पूर्व में एंडी रुबिन द्वारा प्रबंधित किया गया था। [28] वह अप्रैल 2011 से 30 जुलाई 2013 तक जिवे सॉफ्टवेयर के निदेशक थे। पिचई को 10 अगस्त 2015  पर Google के सीईओ बनने के लिए चुना गया था, बाद में सीईओ, लैरी पेज द्वारा उत्पाद मुख्य नियुक्त किए जाने के बाद। 24 अक्टूबर 2015 को उन्होंने Google कंपनी परिवार के लिए नई होल्डिंग कंपनी, वर्णमाला इंक के निर्माण के पूरा होने पर नई स्थिति में कदम रखा।

Sundar Pichai से जुड़े रोचक तथ्य.

पिचई को 2014 में माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ के लिए एक दावेदार के रूप में सुझाव दिया गया था, जो एक स्थिति थी जिसे अंततः सत्य नाडेला को दिया गया था।

1. सुंदर पिचाई का जन्म तमिलनाडु में 1972 में हुआ था और अभी वे 43 साल के हैं. इनका असली नाम पिचाई सुंदराजन है, लेकिन उन्हें सुंदर पिचाई के नाम से जाना जाता है.

2. सुंदर का बचपन में टेक्नोलाॅजी से लगाव बिल्कुल नही था वो अपने स्कूल की क्रिकेट टीम के कप्तान थे.

3. सुंदर पिचाई की याददाश्त जबरदस्त बताई जाती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जब तमिलनाडु में इनके घर पर 1984 में पहली बार टेलीफोन लगा था, तब सभी रिश्तेदार किसी दूसरे का नंबर भूल जाने पर सुंदर की याददाश्त का सहारा लेते थे। सुंदर को छोटी सी छोटी चीजें भी याद रह जाती हैं.

4. ये बात लगभग सभी जानते हैं कि सुंदर पिचाई ने IIT खड़गपुर से पढ़ाई की है लेकिन ये कम ही लोग जानते हैं कि कॉलेज के दिनों में वे रैगिंग के शिकार भी हो चुके हैं.

5. IIT खड़गपुर में रैगर्स के फेवरेट थे ‘सुंदी’। क्योकीं सुंदर एक बार में उनकी बात मान लेते थे. उनके कहने पर टेबल पर चढ़कर डांस भी करते थे.

6. सुंदर पिचाई चेन्नई में दो कमरों वाले घर में रहते थे। इंजीनियरिंग करने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए उन्हें स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की स्कॉलरशिप मिली। उस समय उनके घर की माली हालत इतनी खराब थी कि सुंदर के एयर टिकट के लिए उनके पिता को कर्ज लेना पड़ा था.

7. पढ़ाई के लिए अमेरिका जाने के बाद उनकी पत्नी अंजलि इंडिया में ही रह रही थीं। उनके पास इतने पैसे नहीं होते थे कि वो इंडिया कॉल करके अंजलि से बात कर सकें। कई बार ऐसा होता था कि वे छह महीने तक बात नहीं कर पाते थे.

8. पिचाई ने 2004 में गूगल ज्वाइन किया था। उस समय वे प्रोडक्ट और इनोवेशन अफसर थे.

9. Sundar Pichai के करियर में दो चीजें मील का पत्थर साबित हुईं। पहले उन्होंने जीमेल और गूगल मैप ऐप्स तैयार किए जो रातोंरात लोकप्रिय हो गए। इसके बाद पिचाई ने गूगल के सभी प्रोडक्ट्स के लिए एंड्रॉइड ऐप तैयार किए.

10. जिस Google Chrome को आज पूरी दुनिया इस्तेमाल करती है उसे Sundar Pichai ने अपने हाथों से बनाया है,

11. पिचाई में टीम मैनेजमेंट की कला है. उन्होंने हमेशा अपनी टीम के काम की सराहना की और हर हाल में टीम के साथ खड़े रहे. एक समय की बात है जब मैरिसा मेयर गूगल की एक्जीक्यूटिव थीं, पिचाई घंटों उनके ऑफिस के बाहर बैठे रहते थे सिर्फ ये सुनिश्चित करने के लिए कि मैरिसा उनकी टीम मेंबर्स को अच्छे परफॉर्मेंस नंबर दें. (अब मैरिसा मेयर याहू की CEO हैं।)

12. अमेरिकी मीडिया पिचाई को लैरी पेज का राइट हैंड मानती है. और हमेशा उनके साथ मीटिंग में जाते हैं. पिचाई को कम बोलना पसंद है. वे उतना ही बोलते हैं, जितना जरूरी है.

13. Twitter ने 2011 में सुंदर को जाॅब का आॅफर दिया था. और वो तैयार भी हो गए थे लेकिन गूगल ने नौकरी ना छोड़ने के 305 करोड़ रूपए दिए. क्योकिं गूगल को पता था कि इस बंदे में दम है.

sundar pichai with wife anjali in Hindi

14. जब 2011 में टि्वटर ने सुंदर को जॉब ऑफर किया था तो उनकी वाइफ ने ही उनको गूगल नहीं छोड़ने की सलाह दी थी. सुंदर और अंजलि दोनों ने आईआईटी खड़गपुर से इंजीनियरिंग की है और फाइनल ईयर के दौरान ही सुंदर ने अंजलि को प्रपोज किया था.

15. 2013 के अंत में माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ की दौड़ में भी सुंदर पिचाई शामिल थे. स्टीव बॉल्मर की पसंद भी सुंदर पिचाई ही थे. हालांकि, बाद में CEO of Microsoft Satya Nadella बने.

16. पिचाई, गूगल के उन लोगों में शामिल हैं, जिन्हें उभरते बाजार में गूगल को ले जाना और चलाने का अनुभव हासिल है. उन्हें Google Founder Larry page से भी बेहतर माना जा रहा है

सुंदर पिचाई : सफलता के पीछे की कहानी/Sundar Pichai: The Story Behind Success

Rajesh Sharma

Blogger, Researcher, Author

रिप्लाई (रिप्लाई) दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: